Tuesday, October 20, 2009

Kahan kahan se log aate hain

Lyrics of Sai Bhajan Kahan Kahan se log aate hain in English text

Kahan kahan se log aate hain Baba ke darbar main
Sai ke darbaar main

Dil ke dukhde mit jaate hain, Sai ke darbar main,
Baba ke darbar main
Kahan kahan se (2)

apnaa apnaa rang ho chaahe, laakho hai tasvire (2)
Sai Ke hathon par likhi hai, hum sab ki taqdeerain
Bada ho chotaa (2)
Bada ho Chotaa, jook jaate hain, Sai ke Darbar main
Baba ke darbar main
Kahan kahan se (2)

sabke man ki baaten jaane, sabko yeh pehechaane
Sadiyon tak gunjenge iske, gali gali afsaane (2)
Aasun moti (2)
Aasun moti ban jaate hai Sai ke Darbar main,
Baba ke Darbar main
Kahan kahan se (2)

Yeh woh dar hai roj yahan par mele
Bhakt yahan par aa jaate hain,
Mastaane albele (2)

Apni dhun main ye gaate hain, Sai ke darbaar main Baba ke darbar main
Kahan Kahan se (2)


Lyrics of Sai Bhajan Kahan Kahan se log aate hain in Hindi script


कहाँ कहाँ से लोग आते हैं बाबा के दरबार मैं
साई के दरबार मैं

दिल के दुखडे मिट जाते हैं, साई के दरबार मैं,
बाबा के दरबार मैं
कहाँ कहाँ से (२)

अपना अपना रंग हो चाहे, लाखो है तस्वीरे (२)
साई के हाथों पर लिखी है, हम सब की तकदीरें
बड़ा हो छोटा (२)
बड़ा हो छोटा, जूक जाते हैं, साई के दरबार मैं
बाबा के दरबार मैं
कहाँ कहाँ से (२)

सबके मन की बातें जाने, सबको यह पहेचाने
सदियों तक गूंजेंगे इसके, गली गली अफ़साने (२)
आसूं मोंती (२)
आसूं मोंती बन जाते है साई के दरबार मैं,
बाबा के दरबार मैं
कहाँ कहाँ से (२)

यह वोह दर है रोज यहाँ पर मेले
भक्त यहाँ पर आ जाते हैं,
मस्ताने अलबेले (२)

अपनी धुन मैं ये गाते हैं, साई के दरबार मैं बाबा के दरबार मैं
कहाँ कहाँ से (२)

No comments:

Post a Comment